टाटा -रांची राष्ट्रीय राजमार्ग के चौड़ीकरण की वजह से मानगो वासियों को पानी के लिए आफत आ पड़ी है. सड़क निर्माण की वजह से आए दिन पाइप लाइन फटने के कारण पेयजल स्वच्छता विभाग से लेकर पानी सप्लाई करने वाली एजेंसी भी सकते में है. पिछले एक सप्ताह के अंदर तीसरी बार पाइप लाइन फटने से हजारों घरों में जलापूर्ति नहीं हो सकेगी.

बता दें कि पेयजल और स्‍वच्छता विभाग के कर्मचारी चौहान टायर के पास फटी पाइप लाइन को ठीक कर के वापस आ ही रहे थे कि देर शाम दुबारा एनएच के किनारे तलाब के पास लंबी पाइप लाइन फट गयी. इसके बाद हजारों लीटर पानी बर्बाद हो गया. तीन दिनों से पानी की किल्ल्त झेल रहे पारडीह, कुमरुम बस्ती एनएच के किनारे बसे बस्तियों में जलापूर्ति ठप्प हो गयी.

इन इलाकों में नहीं हो सकी जलापूर्ति

मानगो जलापूर्ति के कर्मचारियों ने बताया कि पाइप लाइन की रिपेयरिंग होने के बाद ही टंकी में पानी चढ़ाया जाएगा. ऐसी स्थिति में तीन दिन से पानी की किल्लत झेल रहे लोगों को शाम को ही जलापूर्ति हो सकेगी. शाम को एनएच 33 पर चौहान टायर दुकान के सामने पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने से  कुमरुम बस्ती, मंगल कॉलोनी, रिपिट कॉलोनी, हयातनगर, झारखंड बस्ती, ब्रह्मापथ, महावीर कॉलोनी, समता नगर, पारडीह उपर टोला, गुलाब बाग कॉलोनी, केल बागान आदि इलाके में जलापूर्ति नहीं हो सकी.

एजेंसी को नहीं मिला वेतन

अक्टूबर महीने में एनएच 33 चौड़ीकरण के कारण पांच बार जलापूर्ति का पाइप क्षतिग्रस्त हो गया. जिसमें 10 दिन तक हजारों घरों के 50 हजार से अधिक लोगों को पानी नहीं मिल सका. अब तो एजेंसी ने भी रिपेयरिंग कराने में अपने हाथ खड़े कर लिए हैं. एजेंसी का कहना है कि उनको सात महीने से वेतन नहीं मिला है. जिस वजह से काम करने में कठिनाई हो रही है.