सरकार की तरफ से बनाई गई एक वैज्ञानिक समिति का कहना है कि भारत में कोरोना का पूरा प्रभाव आ चुका है. भारत में कोरोना का दौर फरवरी, 2021 तक चलेगा. तब तक भारत में कुल एक करोड़ साठ लाख मामले सामने आ चुके होंगे.

कमेटी ने साफ किया कि अब भी हमें सावधानी बरतने की जरूरत होगी. कमेटी ने यह भी कहा कि ठंड में कोरोना की दूसरी लहर से भी इंकार नहीं किया जा सकता.

सरकारी समिति ने दावा किया कि अगर मार्च में भारत में लॉकडाउन ना लगाया जाता, तो भारत इस साल अगस्त तक ही भारत में 25 लाख लोगों की मौत हो चुकी होती.

इस कमेटी की स्थापना “इंडियन नेशनल सुपरमॉडल” बनाने के लिए की गई थी. यह एक मैथमेटिकल मॉडल है, जो भारत में महामारी की दिशा बताएगा.

इस कमेटी का गठन सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन ने किया था. इसका नेतृत्व IIT हैदराबाद के प्रोफेसर एम विद्यासागर कर रहे थे.

भारत में अब तक 75 लाख मामले

भारत में कोरोना के 74,94,552 मामले सामने आ चुके हैं. इनमें से 1,14,031 लोगों की मौत हो चुकी है. अब तक भारत में 65,97,209 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है.