नगर पालिका ने मसूरी-टिहरी बाईपास धनोल्टी रोड पर संचालित कूड़ा कलेक्शन सेंटर में कूड़े का ढेर लगा रखा है. इससे लोगों को वहां से आवाजाही में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. वहीं, बदबू और गंदगी से लोगों का हाल बेहाल है. कूड़ा कलेक्शन सेंटर के अलावा सड़क किनारे कूडे़ का ढेर लग गया है. वहां सैकड़ों टन कूड़ा इकट्ठा हो गया है.

बना हुआ है बीमारी का डर

बता दें कि, कलेक्शन सेंटर के सामने आईडीएच बिल्डिंग है, जिसमें करीब 50 से 60 गरीब परिवार रहते हैं. सभी लोगों को कूड़े के इस ढेर से काफी परेशानी हो रही है. बताया जा रहा है कि नगर पालिका द्वारा दो से तीन ट्रक कलेक्शन सेंटर के कूड़े को देहरादून शीशम बाड़ा भेजने के लिए लगाये गये थे. लेकिन पिछले 15 दिन से सिर्फ एक ही ट्रक संचालित किया जा रहा है. जिसमें बहुत ही कम मात्रा में कूड़ा ले जाया जा रहा है. ऐसे में कलेक्शन सेंटर में कूड़े का अंबार लग गया है. इससे लोगों को बीमारी का भी डर बना हुआ है. वहीं, पर्यटन स्थल धनोल्टी और टिहरी से मसूरी आने-जाने वाले लोगों और पर्यटकों को भी काफी समस्या हो रही है.

स्थानीय लोगों का कहना है कि उनके घरों के बाहर नगर पालिका द्वारा कूड़ा कलेक्शन सेंटर बना दिया गया है. वहां कूड़े का ढेर लगने की वजह से क्षेत्र में गंदगी और बदबू से लोग परेशान हैं. कई लोग बीमार भी हो गए हैं. लेकिन नगर पालिका प्रशासन और जनप्रतिनिधियों को इससे कोई मतलब नहीं है. उन्होंने स्थानीय प्रशासन से जल्द कूड़ा कलेक्शन सेंटर को हटाने की मांग की है.

पिछले 15 दिनों से नहीं उठ रहा कूड़ा

पूर्व पालिकाध्यक्ष मनमोहन सिंह मल्ल ने बोला कि वर्तमान पालिका प्रशासन मसूरी के विकास को लेकर गंभीर नहीं है. उन्होंने कहा कि आईडीएच में कलेक्शन सेंटर में कूड़े का ढेर लगा है. पिछले 15 दिनों से कूड़ा नहीं उठ रहा है, जिससे गंदगी और बदबू से लोगों का हाल बेहाल है. नगर पालिका में दो-दो अधिशासी अधिकारी हैं, लेकिन दोनों ही लापरवाह हैं. ऐसे में पालिका अध्यक्ष अनुज गुप्ता द्वारा भी कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं जिससे लोग परेशान हैं. उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन को संज्ञान लेना चाहिए जिससे कूडे़ के ढेर को तत्काल प्रभाव से हटाया जा सके.